May 15, 2021

Sarvoday Times

Sarvoday Times News

मौसम विभाग : लखनऊ और कानपुर के आसपास के जिलों में भी बारिश की संभावना

1 min read

सोमवार के लिए मौसम विभाग ने ताजा अनुमान जारी कर दिया है. इसके मुताबिक पूर्वांचल और तराई के लगभग दर्जनभर जिलों में अगले कुछ घंटों में बारिश की संभावना है. लखनऊ और कानपुर के आसपास के जिलों में भी बारिश की संभावना जताई गई है.

अगले कुछ घंटों में जिन जिलों में बारिश की संभावना जताई गई है वे हैं – औरैया, कन्नौज, हरदोई, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, श्रावस्ती, गोंडा, बहराइच, बलरामपुर, संत कबीर नगर, सिद्धार्थ नगर, बस्ती, बाराबंकी, लखनऊ, कानपुर नगर और देहात, उन्नाव, रायबरेली, अमेठी और प्रतापगढ़.

मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक अगले तीन-चार दिनों तक प्रदेश में यूं ही मिली जुली बारिश होती रहेगी. बादलों का आना जाना लगा रहेगा. हालांकि भारी बारिश का कोई अनुमान नहीं लगाया गया है.

पश्चिमी यूपी से पूर्वी यूपी तक आज सोमवार के दिन अनेक स्थानों पर बारिश की संभावना जताई गई है लेकिन इतनी नहीं कि कोई अलर्ट जारी किया जा सके.

या जिससे किसी तरीके का कोई खतरा पैदा हो सके. हालांकि बाराबंकी, सिद्धार्थनगर, श्रावस्ती और गोरखपुर जैसे जिलों में बारिश होने से मुश्किलें और बढ़ सकती हैं.

बता दें कि इन सभी जिलों में जलभराव की भीषण स्थिति है. ऐसे में और बारिश होने से लोगों की परेशानी बढ़ेगी. बलरामपुर में तो राप्ती नदी की कटान से कई गांव पर खतरा मंडरा रहा है.

बस्ती में भी नदी की कटान का अंदेशा बना हुआ है. तराई और पूर्वांचल की ओर से बहने वाली ज्यादातर नदियां खतरे के निशान से ऊपर चल रही हैं. हालांकि धीरे-धीरे वाटर लेवल नीचे भी आ रहा है.

बहुत कम बार ऐसा हुआ है कि इस मानसूनी सीजन में ऐसा कोई दिन गुजरा हो जिस दिन प्रदेश में कहीं भी बारिश मौसम विभाग ने दर्ज न की हो. रविवार का दिन ऐसा ही रहा.

प्रदेश के किसी भी जिले में इतनी बारिश नहीं हुई जिसे दर्ज किया जा सके. कुछ जिलों में छिटपुट बूंदें जरूर बरसी. बाकी सभी जिलों में कोई बारिश नहीं हुई. हालांकि मौसम विभाग ने रविवार की सुबह पश्चिमी यूपी से लेकर पूर्वी यूपी तक के कई जिलों में बारिश का अनुमान लगाया था.

बारिश न होने की वजह से लोगों को भारी उमस का सामना करना पड़ा. आज सोमवार सुबह से ही लखनऊ और आसपास के जिलों में हल्की बूंदाबांदी हो रही है.

loading...
Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.