May 15, 2021

Sarvoday Times

Sarvoday Times News

बिहार चुनाव के पहले राजनीति हलचल हुई तेज रामविलास पासवान ने किया भावुक ट्वीट

1 min read

बिहार चुनाव के पहले राजनीति अलग-अलग मोड़ ले रही है. बिहार और देश की राजनीति के धुरंधर रामविलास पासवान पिछले कई दिनों से अस्पताल में अपनी ख़राब तबीयत का इलाज़ करवा रहे हैं. उनकी पार्टी के अध्यक्ष और उनके पुत्र चिराग पासवान और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीच तनातनी लगातार जारी है. ऐसे में रामविलास पासवान के एक ट्वीट से अटकलों का नया दौर शुरू हो गया है.

दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती रामविलास पासवान ने आज सुबह-सुबह तीन भवुक ट्वीट किए. गहरे सियासी मायनों वाले इन ट्वीट में पासवान ने अपनी तबीयत ख़राब होने की जानकारी देते हुए अपने बेटे चिराग पासवान में पूरा भरोसा जताया. पासवान ने चिराग के बारे में लिखा मेरा ख़याल रखने के साथ साथ पार्टी के प्रति भी अपनी ज़िम्मेदारियों को बखूबी निभा रहा है. मुझे विश्वास है कि अपनी युवा सोच से चिराग पार्टी व बिहार को नयी ऊंचाईयों तक ले जाएगा. चिराग के हर फ़ैसले के साथ मैं मज़बूती से खड़ा हूं.

चिराग पासवान बने लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष, राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक  में हुई घोषणा। - ABM Live

रामविलास पासवान ने अपने ट्वीट में लिखा है कि उनका विश्वास है कि अपनी युवा सोच से चिराग पासवान पार्टी और बिहार को नई ऊंचाइयों तक ले जाएंगे. पासवान के इस बयान के कई राजनीतिक मायने निकाले जा रहे हैं. सवाल ये उठ रहा है कि क्या राम विलास पासवान अपने बेटे चिराग पासवान को बिहार के भावी नेता के तौर पर देख रहे हैं? राजनीतिक बिसात को परखने में माहिर राम विलास पासवान को मौसम वैज्ञानिक की संज्ञा दी जाती है. पासवान पहले भी कह चुके हैं कि हर बाप का सपना होता है कि उसका बेटा मुख्यमंत्री बने.

Bihar Polls: Ram Vilas Paswan Reveals He is Hospitalised, Backs Son Chirag Paswan to Take Alliance Call ANN

खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने लॉक डाउन के दौरान देश के ग़रीब लोगों की मुफ्त राशन पहुंचाने में अहम भूमिका अदा की है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पासवान और उनके मंत्रालय की भूरी भूरी प्रशंसा कर चुके हैं. पासवान ने लिखा- ‘कोरोना संकट के समय खाद्य मंत्री के रूप में निरंतर अपनी सेवा देश को दी और हर सम्भव प्रयास किया कि सभी जगह खाद्य सामग्री समय पर पहुंच सके. इसी दौरान तबियत ख़राब होने लगी लेकिन काम में कोई ढिलाई ना हो इस वजह से अस्पताल नहीं गया.’ ज़ाहिर है तबियत ख़राब होने से काम करने में आ रही बाधा से खुद पासवान भी दुखी हैं.

loading...
Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.