July 19, 2024

Sarvoday Times

Sarvoday Times News

सिंदूर खेला के जश्न पर कोरोना का साया:-

1 min read

देहरादून। हर साल धूमधाम के साथ बंगाली लाइब्रेरी और दुर्गाबाड़ी में बंगाली समुदाय की ओर से मनाए जाने वाले सिंदूर खेला का जश्न भी फीका रहा। कोरोना संक्रमण के चलते दोनों पंडाल में साधारण उत्सव से मां की मूर्ति में टीका लगाकर पूजन कर विदा किया गया।

Durga Puja 2020: The practice of sindoor khela started 450 years ago, learn  how to do Goddess Boron - Sindoor Khela : जानें सिंदूर खेला की परंपरा के  बारे में, क्या‍ होता

शारदीय नवरात्र के अंतिम दिन दुर्गा पूजा और दशहरा बंगाली समुदाय की महिला मां दुर्गा को सिंदूर अर्पित करती है। इसके बाद मां की मूर्ति का विसर्जन किया जाता है। पंडाल में मौजूद सभी सुहागन महिलाएं एक-दूसरे को सिंदूर लगाती हैं। यह खास उत्सव मां की विदाई के रूप में मनाया जाता है। सिंदूर खेला मां दुर्गा के गालों को स्पर्श करते हुए उनकी मांग और माथे पर सिंदूर लगाकर महिलाएं अपने सुहाग की लंबी उम्र की कामना करती हैं।

Farewell to Goddess Durga given with Sindoor Khela ceremony There will be  no immersion in Ganga

बंगाली लाइब्रेरी सदस्य के के चक्रवर्ती ने बताया कि इस साल कोविड गाइडलाइन के चलते पर परमिशन नहीं मिल पाई थी। इसके कारण यहां पर सिंदूर खेला नहीं हो पाई थी। यहां पर महिलाओं ने एक दूसरे को तिलक नहीं लगाया। मां की मूर्ति को ही सिंदूर लगाकर साधारण तरीके से यह उत्सव मनाया गया। इसके साथ ही दुर्गाबाड़ी में भी नौ दिन मां की मूर्ति को पूजन के बाद विदा किया गया हैं।

loading...

You may have missed

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.