October 22, 2021

Sarvoday Times

Sarvoday Times News

भारत और बांग्लादेश के बीच होने वाले टेस्ट मैच को लेकर गुलाबी गेंद की खूब चर्चा

1 min read

इस मैच में फैंस में गुलाबी गेंद के कारण गेंदबाजी में होने वाले असर को लेकर भी बहुत बातें की जा रही हैं, लेकिन भारतीय विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) ने इस बात पर ध्यान दिलाया है कि इससे विकेटकीपिंग पर भी असर होगा.

यह है चुनौती
साहा ने कहा है कि दिन-रात टेस्ट मैच में गुलाबी गेंद से विकेटकीपिंग करना विकेटकीपरों के लिए चुनौतीपूर्ण है. साहा ने कहा, “(गुलाबी) गेंद को पकड़ना चुनौतीपूर्ण है. अगर यह स्लिप के लिए चुनौतीपूर्ण है तो मेरे लिए भी है क्योंकि मैं भी स्लिप के बगल में खड़ा रहता हूं. इसके अलावा तेज गेंदबाज जब गेंद फेंकते हैं तो यह गेंद लहराती है. यह एक फैक्टर हो सकता है, लेकिन मुझे चुनौती स्वीकार है. हम पेशेवर हैं.”

साझा किया अपना अनुभव
भारतीय खिलाड़ियों में साहा और मोहम्मद शमी को ही घरेलू क्रिकेट में दिन-रात मैच खेलने का अनुभव है. दोनों खिलाड़ी 2016 में ईडन गार्डन्स में सीएबी के सुपर लीग फाइनल में दिन-रात क्रिकेट खेल चुके हैं. उन्होंने कहा, “यह चुनौतीपूर्ण होगा, खासकर गेंद को पकड़ते समय. हमें इससे तालमेल बिठाना होगा. गेंद नई है और यह तेज गेंदबाजों के लिए मददगार साबित हो सकती है. यह बल्लेबाजों के लिए चुनौतीपूर्ण हो सकती है.”

क्या पेसर्स को मिलेगी मदद
यह पूछे जाने पर कि क्या भारतीय पेस तिकड़ी शमी, उमेश यादव और ईशांत शर्मा को इस गेंद से मदद मिलेगी, उन्होंने कहा, “गेंद गुलाबी हो या लाल. उनके (शमी के) लिए यह वैसा ही रहेगा. शमी ने हाल के मैचों में अच्छा किया है. वह किसी भी परिस्थिती में अच्छा करते हैं. रांची में भी उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया था. वह गति के साथ रिवर्स स्विंग हासिल करते हैं.”

loading...
Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.