June 22, 2021

Sarvoday Times

Sarvoday Times News

जीजा ने साली से प्रेम विवाह करने के बाद उसकी हत्या करने के बाद शव को सेपटिक टैंक में फेंका

1 min read

क्षेत्राधिकारी बड़ागांव अर्जुन सिंह ने रविवार को बताया कि चौबेपुर के श्रीकंठपुर निवासी विनोद कुमार गोंड ने बड़ी बेटी गायत्री की शादी बड़ागांव के पयागपुर निवासी विनोद कुमार से वर्ष 2005 में की थी। ससुराल आने-जाने में विनोद और उसकी साली राजनन्दिनी उर्फ अंतिमा में प्रेम हो गया। वर्ष 2007 में दोनों ने शादी कर ली। दोनों परिवारों में  पंचायत के बाद विनोद की पहली पत्नी पयागपुर में जबकि दूसरी पांडेयपुर में किराये के मकान में रहने लगी। बीते 15 अगस्त को रक्षा बंधन पर भाई जब पयागपुर पहुंचा तो बातचीत में उसने बड़ी बहन से अंतिमा का हालचाल भी पूछा।

घटना के करीब 13 महीने बाद पिता और भाई की शिकायत के बाद पुलिस ने कंकाल और साड़ी बरामद करके आरोपित और उसके मौसेरे भाई को गिरफ्तार कर लिया जबकि एक आरोपित फरार है। मामला यूपी के वाराणसी जिले का है। क्षेत्राधिकारी बड़ागांव अर्जुन सिंह ने रविवार को बताया कि चौबेपुर के श्रीकंठपुर निवासी विनोद कुमार गोंड ने बड़ी बेटी गायत्री की शादी बड़ागांव के पयागपुर निवासी विनोद कुमार से वर्ष 2005 में की थी। ससुराल आने-जाने में विनोद और उसकी साली राजनन्दिनी उर्फ अंतिमा में प्रेम हो गया। वर्ष 2007 में दोनों ने शादी कर ली। दोनों परिवारों में  पंचायत के बाद विनोद की पहली पत्नी पयागपुर में जबकि दूसरी पांडेयपुर में किराये के मकान में रहने लगी।

बीते 15 अगस्त को रक्षा बंधन पर भाई जब पयागपुर पहुंचा तो बातचीत में उसने बड़ी बहन से अंतिमा का हालचाल भी पूछा। इस पर उसने जानकारी नहीं होने की बात बताई। जीजा से पूछने पर उसे शक हुआ। इसके बाद घर जाकर उसने पूरी बात पिता को बताई। परिवार वालों ने पहले अपने स्तर से बेटी का पता लगाना शुरू किया। हत्या की आशंका पर छह सितंबर को अंतिमा के पिता ने बड़ागांव थाने में दामाद विनोद, उसके पिता शोभाकांत, मां नगीना देवी, भाई सुनील कुमार, चन्दन के खिलाफ केस दर्ज कराया। विनोद को हिरासत में लेकर पुलिस ने पूछताछ शुरू की तो उसने हत्या करने की बात स्वीकार की।

इसके बाद पुलिस ने उसके भाई चन्दन को काजीसराय से गिरफ्तार कर लिया। हत्यारोपित एक भाई, मां, बाप की तलाश की जा रही है। पूछताछ में विनोद ने बताया कि घर वालों की इच्छा के विपरीत अंतिमा से शादी करने के बाद उसे लेकर पाण्डेयपुर में किराए के मकान में रहने लगा। दो वर्ष पहले दोनों पत्नियों में रोज विवाद होने लगा और कलह से परेशान होकर 28 अगस्त 2018 को अंतिमा की गला दबाकर हत्या कर दी। हत्या करने में मौसेरा भाई श्रवण और चंदन शामिल थे। शव को ठिकाने लगाने के लिए लोहे के बक्से में रखकर मैजिक से चौबेपुर की तरफ ले जा रहे थे। बीच में पुलिस वाहनों की जांच कर रही थी तो मैजिक बड़ागांव स्थित गांव पयागपुर ले गए और सेपटिक टैंक में शव को डाल दिया।

पुलिस के अनुसार वारदात में विनोद के पिता व मां साक्ष्य छुपाने में दोषी हैं। वहीं पत्नी गायत्री देवी की भूमिका की जांच होगी। जांच के बाद हत्या में संलिप्तता मिलेगी तो उसे भी जेल भेजा जाएगा। एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने मामले का खुलासा करने पर थानाध्यक्ष संजय सिंह, एसआई हरिकेश सिह, राजाराम शुक्ला, राकेश ओझा, कांस्टेबल सौरभ यादव,जसवन्त कुमार चौहान की टीम को 25 हजार का पुरस्कार देने की घोषणा की। इस पर उसने जानकारी नहीं होने की बात बताई। जीजा से पूछने पर उसे शक हुआ। इसके बाद घर जाकर उसने पूरी बात पिता को बताई। परिवार वालों ने पहले अपने स्तर से बेटी का पता लगाना शुरू किया।

हत्या की आशंका पर छह सितंबर को अंतिमा के पिता ने बड़ागांव थाने में दामाद विनोद, उसके पिता शोभाकांत, मां नगीना देवी, भाई सुनील कुमार, चन्दन के खिलाफ केस दर्ज कराया। विनोद को हिरासत में लेकर पुलिस ने पूछताछ शुरू की तो उसने हत्या करने की बात स्वीकार की। इसके बाद पुलिस ने उसके भाई चन्दन को काजीसराय से गिरफ्तार कर लिया। हत्यारोपित एक भाई, मां, बाप की तलाश की जा रही है। पूछताछ में विनोद ने बताया कि घर वालों की इच्छा के विपरीत अंतिमा से शादी करने के बाद उसे लेकर पाण्डेयपुर में किराए के मकान में रहने लगा। दो वर्ष पहले दोनों पत्नियों में रोज विवाद होने लगा और कलह से परेशान होकर 28 अगस्त 2018 को अंतिमा की गला दबाकर हत्या कर दी।

हत्या करने में मौसेरा भाई श्रवण और चंदन शामिल थे। शव को ठिकाने लगाने के लिए लोहे के बक्से में रखकर मैजिक से चौबेपुर की तरफ ले जा रहे थे। बीच में पुलिस वाहनों की जांच कर रही थी तो मैजिक बड़ागांव स्थित गांव पयागपुर ले गए और सेपटिक टैंक में शव को डाल दिया। एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने मामले का खुलासा करने पर थानाध्यक्ष संजय सिंह, एसआई हरिकेश सिह, राजाराम शुक्ला, राकेश ओझा, कांस्टेबल सौरभ यादव,जसवन्त कुमार चौहान की टीम को 25 हजार का पुरस्कार देने की घोषणा की। पुलिस के अनुसार वारदात में विनोद के पिता व मां साक्ष्य छुपाने में दोषी हैं। वहीं पत्नी गायत्री देवी की भूमिका की जांच होगी। जांच के बाद हत्या में संलिप्तता मिलेगी तो उसे भी जेल भेजा जाएगा।

loading...
Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.