July 21, 2024

Sarvoday Times

Sarvoday Times News

पिता के घर में रहने के लिए बेटी को हर महीने देना होगा 10,000 रुपए व्यवसाय शुल्क, पढ़िए हाई कोर्ट का फैसला:-

1 min read

सम्पत्ति विवाद में दिल्ली हाई कोर्ट ने अहम फैसला दिया है। पिता और बेटी के बीच के ऐसे ही विवाद में दिल्ली हाई कोर्ट ने याचिकाकर्ता दिव्या कुकरेजा को निर्देश दिया कि वह पिता चिरंजीव लाल कुकरेजा की संपत्ति का इस्तेमाल कर रही हैं, इसलिए बदले में उन्हें व्यवसाय शुल्क का भुगतान करना होगा। कोर्ट ने इसके लिए 10,000 रुपए प्रति माह की राशि तय की। जस्टिस प्रतिभा एम. सिह की पीठ ने केस की सुनवाई के दौरान कहा कि प्रतिवादी पिता सेवानिवृत्त इंजीनियर हैं, जबकि पढ़ी लिखी होने के कारण बेटी अपनी आजीविका कमाने में सक्षम है। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने पाया कि बेटी दिव्या अपने पिता के घर में एक कमरा, रसोईघर, शौचालय और बरामदे का इस्तेमाल कर रही हैं। ऐसे में फिलहाल उन्हें 1 अक्टूबर से पिता को 10 हजार रुपए प्रतिमाह भुगतान करने का निर्देश दिया जाता है। मामले में अगली सुनवाई 2 दिसंबर को होगी। पढ़िए नई दिल्ली से विनीत त्रिपाठी की रिपोर्ट

HIGH COURT : अब बेटी को पिता के घर में रहने के लिए हर महीने देना होगा 10  हज़ार रुपए व्यवसाय शुल्क : पढ़िए - Rewa News Media

दक्षिण दिल्ली स्थित ईस्ट ऑफ कैलाश निवासी चिरंजीव लाल कुकरेजा के वकील निपुन कात्याल के मुताबिक, चिरंजीव ने अपनी बेटी को बिजनेस मैनेजमेंट में शिक्षा दिलाई और साल 2008 में धूमधाम से शादी भी की थी। हालांकि, पति से किसी वजह से तलाक होने के बाद वह साल 2012 में पिता के पास दिल्ली आ गईं, लेकिन कुछ समय बाद ही पिता के साथ भी उनके रिश्ते खराब हो गए। आए दिन झगड़ा शुरू हो गया।

इसके बाद संपत्ति विवाद को लेकर पहले मामला साकेत मजिस्ट्रेट के पास पहुंचा, जहां फैसला चिरंजीव लाल कुकरेजा के पक्ष में आया था। इस फैसले को दिव्या ने जिला जज के पास चुनौती दी थी। वहां भी दिव्या के खिलाफ फैसला आया। इसके बाद निचली अदालत के फैसले को दिव्या ने साल 2019 में हाई कोर्ट में चुनौती दी।

loading...

You may have missed

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.