June 22, 2021

Sarvoday Times

Sarvoday Times News

क्या अख़बार छूने से हो सकता है कोरोना वायरस ?

1 min read

चीन के वुहान से फैला कोरोना वायरस पूरी दुनिया में अपने पैर पसारने लगा और अब तेज़ी से फैलते कोरोना वायरस के ट्रांसमिशन चेन को रोकने के लिए देश में 21 दिनों तक संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की गई है. लेकिन जितनी तेज़ी से ये वारयस फैल रहा है उतनी तेज़ी से इसे लेकर फ़ेक और अधपकी सूचनाएं भी फैल रही हैं. ऐसा ही एक दावा किया जा रहा है कि कोरोना का संक्रमण अख़बारों को ज़रिए भी हो सकता है.चूंकि ये अख़बार प्रिंटिंग प्रेस से आपके घरों तक कई लोगों के ज़रिए आता है इसलिए इससे कोरोना वायरस का संक्रमण हो सकता है ऐसा कहा जा रहा है

WHO के अनुसार अगर कोई कोविड-19 से संक्रमित व्यक्ति अख़बार को छूता है तो अख़बार में ये वायरस कुछ देर के लिए आ सकता है. हालांकि अख़बार से संक्रमण होना का ख़तरा बेहद कम है. क्योंकि संक्रमण कई फ़ैक्टर पर निर्भर करता है. जैसे कि आप तक वायरस कितनी मात्रा में पहुंचा, किसी सतह पर वायरस कब तक एक्टिव रहा साथ ही वातावरण भी इसमें ख़ास भूमिका निभाता है अब अगर हम बात करे डॉ की सलाह की तो डॉ. सुजीत कुमार सिंह ने कहा की अख़बारों से कोविड-19 के संक्रमण फैलने का कोई प्रमाण नहीं है.

अगर ऐसा होता तो हम इसकी सूचना ख़ुद देते कोविड-19 के संक्रमण की जो मुख्य वजह है वो है ड्रॉपलेट के ज़रिए वायरस का फैलना. ऐसे में लोगों से दूरी बनाए रखें और हाथ धोते रहें, यही उपाय है. देखिए ये वायरस दुनिया भर के लिए नया है. इसे लेकर धीरे-धीरे जानकारियां सामने आ रही हैं अब अगर हम बात करे अख़बार से कोरोना वायरस फैलने का ख़तरा बेहद कम तो है. हालांकि डॉक्टरों की राय है कि अख़बार पढ़ने के बाद ख़ुद की सुरक्षा के लिए साबुन या एल्कोहल वाले हैंड सैनेटाइज़र से हाथ ज़रूर साफ़ करले इससे खतरे की सम्भावना बेहद कम हो जाएगी।

loading...
Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.